Monday, October 23, 2017
Home Authors Posts by मैं शायर तो नहीं...

मैं शायर तो नहीं...

476 POSTS 0 COMMENTS
मेरा ये Introduction, बस एक दिल की ज़ुबानी है.. मेरा मानना है कि सभी को ज़िन्दगी में, एक बार ही सही, सच्ची महोब्बत करनी चाहिए... एक मज़ा, एक नशा, एक ऐहसास है.. उस ऐहसास में... और महोब्बत के साथ-साथ एक दुवा करनी चाहिए, की वो शख्स जिसे आपने चाहा है , वो कभी जुदा न हो... क्यूकी वो ऐहसास, सभी एहसासों से ज़्यादा दर्द भरा होता है... दुवा करें, साथ-साथ उस शख्स की कदर भी... Especially उसकी, जो हमें चाहता है... अगर आपने किसी से कभी भी महोब्बत की है, तो उससे जरुर बताना वो कितना ख़ास है... क्या पता, वो ये सुनने के लिए कितना बेक़रार हो और इसी बेकरारी के साथ कहीं दूर चला जाये... जाने से पहले, ज़रूर उससे पता होना चाहिए, वो कितना ख़ास है... एक शख्स को कभी हमने भी चाहा था मगर, आज लाख़ कोशिश कर लूँ, उससे भुला नही पाता......