Ek Gareeb Ladki Ka Akhiri Khat Uske Pyar k Naam

बहुत दुखी मन से और मज़बूर होकर तुम्हें ये ख़त लिख रही हूँ… आज शादी है मेरी .. माँ हमेशा कहती थी कि हमारा मिलना असंभव है… और आज देखो उसकी ही बात सच हो रही है….

मैंने आज तक तुमसे कुछ नहीं मांगा पर आज बस इतना एहसान कर दो कि मुझसे वादा करो की तुम मेरे बाद भी अपना ख्याल रखोगे.. और हमेशा खुश रहोगे. जानते हो, मैं अपनी औलाद को वो ज़िंदगी नहीं देना चाहती जो मुझे मिली… जहां माँ-बाप का होना और ना होना बराबर हो… शायद, बहुत बड़ी सच्चाई कहने जा रही हूँ… वो ये कि, कल को जब (मुझे नहीं पता किस रात या दिन में) जिस वक़्त वो मुझमें अपना अंश बो रहा होगा तो तय है कि तब भी मैं तुम्हारे बारे में ही सोच रही होऊंगी… ये भी तय है कि उस नन्ही-सी जान का नाम तुम्हारे नाम पे रख कर…. आजीवन मैं उसके चेहरे में तुम्हें तलाश रही होऊंगी… उसकी आँखें, उसके होंठों, उसके नाक को मिलाकर घंटों उसे अपने सामने बिठाकर मैं तुम्हारी शक्ल बना रही होऊंगी.. और यूं बैठे-बैठे जब वो थक जाया करेगा तो हौले से उसका माथा चूम लिया करूंगी ठीक वैसे ही जैसे तुम्हारा चूमती थी…

तुम दरख़्त हो और मैं किसी पेड़ से टूटा वो पत्ता हूँ जो मरने के बाद भी किसी ग़ैर हवा के साथ नहीं जा सकेगा.. जिसे तुम्हारी ही जड़ों में दफ़न हो जाना है। मुझसे तुम्हारा मोह, तुम्हारा प्रेम ना छूट सका और ना ही छूट सकेगा… तो मेरी जान तुम अपना खयाला रखना, मैं अपना धर्म निभाऊंगी.. और हाँ प्लीज़, हाथ जोड़कर विनती है कि मुझे ढूँढने की कोशिश ना करना क्योंकि बहुत कमज़ोर हूँ मैं, बहुत ज़्यादा…

हमेशा तुम्हारी…

Sabke chehre par hai khushi magar mere dil me har taraf mayusi aur bechaini ka haal hai….
Ghar me baj rahi hain shahnaiyan aaj aur mere dil ke andar matam ka mahaul hai…..

Maa darwaze par khadi chilla rahi hain ki barat aane wali hai jaldi se taiyar ho jaun….
Main itna thaka mahsoos kar rahi hun ki dil mera kah raha hai ki hamesha ke liye chain se so jaun…

Mere hathon me kalam aur kagaz hai .. jis par main tumhare liye ek akhri paigam likh rahi hun….
Mujhe galat mat samjhna kabhi.. main to gharwalon ki izzat ke liye kisi ke hath zabardasti bik rahi hun…..

Meri akhri sans tak mohabbat me mere dil ki dhadkan tumhara naam hi pukara karegi…
Mana ki zabardasti mera jism saumpa jaa raha hai kisi aur ko magar marte dam tak meri ruh tumhari rahegi….

Hamne jo dekhe the sare sapne unhe hum agle janm me pura karenge…
Sath jee naa sake to kya hua magar wada hai ki humm sath me marenge…..

Mar to main ab bhi jati magar tumhare wade ki wajah se maut ki taraf badhte mere kadam tham gaye….
Ab kisi ki mohabbat mujhe pighla nahi sakti tumhari judai se ham pathar ki tarah jam gaye….

Tumhare naam se mera naam tab tak juda rahega jab tak chand aur chandgi hain is asman me…
Jis tarah hamne ek dusre se ki hai mohabbat waise koi dusra nahi kar payega is jahan me….

Nachti jhumti mere darwaze par Barat aagyi hai uska shor mujhe yaha tak sunayi de raha hai….
Main kaise sambhalungi khud ko.. meri ankhon me to sirf tumhara chehra hi dikhai de raha hai….

maa bula rahi hai isi liye Ab main chalti hun , ab tumse agle janm me milungi….
Tmhe meri kasam hai apna khyal rakhna aur main wada karti hun ki main bhi apna rakhungi….