Doli Aur Janaza Shayari
Doli Aur Janaza Shayari

Doli Aur Janaza Shayari – Heart Touching Sad Poetry in Hindi – ye dard bhari sad shayari ek jazabat hain jinhe wo apni girlfirend ki shadi kisi aur se ho jane pr apne dard ko kam karne ke liye jahir kr raha hai….

डोली और जनाज़ा दर्द भरी शायरी

तेरी डोली के पीछे मेरा जनाज़ा भी चल रहा था…
तू जिंदा होकर भी बेचैन ना थी और मै मुर्दा होकर भी मचल रहा था…

लोग शादी में तेरी ख़ुशी के मारे पागल हो रहे थे…
इधर मेरे जनाज़े में सब जोर जोर से रो रहे थे…

कहा होगा जब तेरी दोस्त ने की तेरा आशिक़ अब मर चूका है…
उसकी जिस बात को तू मजाक समझती थी वो हकीकत में वो कर चूका है…

तब ज़रूर तू एक पल के लिए घबराई होगी…
“तू मेरी ना हवी तो मर जाऊंगा मै” मेरी ये बात तुझे याद आयी होगी…

मेरे एक दोस्त ने बताया था की तू लाल जोड़े में बला की खूबसूरत लग रही थी…
आने जाने वाले हर मेहमान को अपनी खूबसूरती से ठग रही थी…

मै जनता था की लाल जोड़ा और हाथों में मेहँदी रचा कर क़यामत धाएगी तू…
मगर कभी ये ना सोचा था की मुझे भूल कर किसी गैर के नाम का सिंदूर अपने माथे पर लगाएगी तू….

मैंने दिल और रखा पत्थर और “तुम अब मेरी नहीं हो सकती” मैंने ये सोच लिया…
मेरी वो साँसे जिनपर तेरा हक़ था मैंने उन साँसों को भी रोक लिया…

मै मरने के बाद भी नज़रें दरवाजे पर टिकाये बैठा था…
“मत उठावो जनाज़ा मेरा वो आती होगी” मै रह रह कर सबको यही कहता था…

जब मुझे कब्रिस्तान में ले जाकर दफ़नाने लगे थे मेरे अपने…
मैंने अपने साथ तब समेत लिए थे हमारे सभी सपने…

किसी ने कहा था की ऊपर लोग ख़ाली हांथ जाते हैं…
मगर उन्हें क्या पता मेरे जैसे कुछ अभागे अपने साथ अपने टूटे सपने भी लेकर जाते हैं…

कब्र पर मिट्टी आखिरी पढने तक मैंने तुम्हारा इंतजार किया था…
अब दफना दो मुझे वो नहीं आयेगी.. मैंने ये फ़ैसला दिल पर पत्थर रख कर लिया था…

घर तुम्हे वक्त मिले मेरे सपनो की, मेरी यादों की, तेरे लिए हुवे वादों की राख को अपनी मांग में सजाने से…
तो एक बार दो आँसू बहा जाना.. मेरी कब्र पर किसी ना किसी बहाने से…..

Doli Aur Janaza Hindi Sad Shayari

Teri doli ke peechhe mera janaza bhi chal raha tha…
Tu zinda hokar bhi bechain na thi aur main murda hokar bhi machal raha tha…

Log shadi me teri khushi ke mare pagal ho rahe the…
Idhar mere janaze me sab zor zor se ro rahe the….

Kaha hoga jab teri dost ne ki tera ashik ab mar chuka hai…
Uski jis baat ko tu mazak samjhti thi wo haqikat me wo kr chuka hai….

tab jarur tu ek pal ke liye ghabrai hogi……
“tum meri na hui to mar jaunga mai” meri ye baat tujhe yaad aayi hogi…

Mere ek dost ne bataya tha ki tu laal jode me bala ki khoobadurat lag rahi thi….
Aane jaane wale har mehman ko apni khubsurati se thag rahi thi….

Mai janta tha ki lal joda aur hatho me mehndi racha kar kayamat dhawegi tu….
Magar kabhi ye na socha tha ki mujhe bhul kar kisi gair k naam ka sindur apne mathe pr lagawegi tu…

Maine dil par rakha pathar aur “tum ab meri nahi ho sakti” maine ye soch liya…
Meri wo sanse jinpar tera haq tha maine un sanson ko bhi rok liya….

Main marne ke baad bhi nazren darwaje par tikaye baitha tha…
‘Mat mera uthao janaza wo aati hogi’ main rah rah ke sabko yahi kahta tha….

Jab mujhe kabristan me le jakar dafnane lage the mere apne…
Maine apne sath tab samet liye the hamare sabhi sapne….

Kisi ne kaha tha ki upar log khali haath jaate hain…
Magar unhen kya pata mere jaise kuch abhage apne sath apne toote sapne bhi lekar jate hain…

Kabar par mitti akhri padne tak maine tumhara intzar kiya tha…
Ab dafna do mujhe wo nhi ayegi.. maine ye faisla dil par paththar rakh kr liya tha….

Read this also : Girlfriend Ki Shadi Ki Sad Shayari in Hindi

Gar tumhe wakt mile mere sapno ki meri yadon ki, tere kiye huve wadon ki raakh ko apni maang me sajane se…..
To ek baar 2 ansu baha jana.. meri kabar pr kisi na kisi bahane se…..

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here