Hindu muslim love story
Hindu Muslim Love Story

उसकी कोई भी निशानी, मेरी कमज़ोरी नहीं मेरी ताकत है। मुझे फक्र है इस प्रेम पर, जिसने हँसते हुए मेरे निर्णय को हमारा निर्णय बना लिया। कितना दर्द हुआ होगा उसे बिछड़ते हुए लेकिन उसने उफ़्फ़ तक नहीं की। फिर मैं आंसू बहाकर, या उसकी आखरी निशानी को मिटाकर उसके प्रेम को छोटा क्यों बना रहा हूँ। नहीं । ये मोहोब्बत मेरी कमज़ोरी नहीं…

Hindu muslim love story Shayari in hindi | true prem kahani – ye kahani ek aise ladke ki jo ek ladki se bahut pyar karta tha pr uska dharm alag hone ki wajah se uske maa baap ne use alag kar diya….

एक अधूरी प्रेम कहानी

कितना दिल रोया मेरा उस रात को मै क्या बताऊँ…
मै ख़ुद ही गुनहगार अपनी महोब्बत का फिर किस्सा ये कैसे सुनाऊ…

चांदनी थी रात लेकिन घर में अँधेरा घना था…
लोग बहार हंस रहे थे और मै यहाँ आसुओं में सना था…

किसको कहता मै बुरा ये बात समझ ना आ रही थी…
सांसे तो चल रही थीं मेरी मगर जान छोड़े जा रही थी…

कहते हैं प्यार महोब्बत की कोई जात नहीं होती है…
ये तो ख़ुदा का तोहफ़ा है जो उसके जैसे ही पाक होती है…

मगर ये जालिम दुनिया वाले महोब्ब्त में भी मज़हब को खोज लेते हैं…
समाज के नाम पर हम जैसे प्यार करनेवालों की सब खुशिओं को नोच लेते हैं…

मैं मुसलमान था हिन्दू लड़की से प्यार करने की भूल कर बैठा…
दुनिया से लड़ जाता मगर कैसे उससे लड़ता जो ख़ुद मेरे ही घर में बैठा…

उसको अलविदा कहना पड़ा क्योंकि हालात ही कुछ ऐसे ही बने थे…
“हम या फिर वो लड़की” मेरे अपनों के ऐसे सवाल मेरे सामने खड़े थे…

मैंने उसके ही कहने पर चुना माँ बाप को और उस मासूम का दिल तोड़ आया…
जो थी मेरे भरोसे पर मैं उसका साथ ही छोड़ आया…

मैं उससे कहना चाहूँगा की महोब्बत उसके लिए हमेशा मेरे दिल में जिंदा रहेगी…
मै उसकी हर मुसीबत में एक ढाल की तरह खड़ा मिलूँगा, जब जब वो दिल से मेरा नाम कहेगी……

Hindu Muslim Love Story in Hindi

Kitna dil roya mera us raat ko main kya bataun…
mai khud hi gunahgar apni mahobbat ka fir kiss ye kaise sunaun….

Chandni thi raat lekin ghar me andhera ghana tha…
Log bahar hans rahe the aur main yahan ansuon me sana tha…

Kisko kahta main bura ye baat samjh naa aarahi thi…
Sanse to chal rahi thin meri magar jaan chode jaa rahi thi…

Wo masoom si ladki meri fikar me soti nahi thi…
Toot na jaun kahin ye soch kar samne roti nahi thi…

Kahte hain pyar mahobbat ki koi jaat nahi hoti hai…
Ye to khuda ka tohfa hai jo uske jaise hi paak hoti hai….

Magar ye jalim duniya wale mohabbat me bhi mazahab ko khoj lete hain….
Samaj ke naam pr Hum jaise pyar karnewale ki sab khushiyaon ko noch lete hain….

Main muslman tha hindu ladki se pyyar karne ki bhool kar baitha…
Duniya se lad jaata magar kaise usse ladta jo khud mere hi ghar me baitha….

Usko alvida kahna pada kyun ki halat kuchh aise hi bane the…
“ham ya wo ladki” mere apno ke asie sawal mere samne khade the…

Maa baap ka eklauta beta tha unhe akela chor nahi sakta…
Magar mai kitni bhi koshish kar lun use bhulne ki magar use chahne se dil ko rok nahi sakta….

Maine uske hi kehne pr chuna maa baap ko aur us masoom ka dil tod aaya…
Jo thi mere bharose par main uska sath chor aaya…

Wo kuch na boli thi jab maine uska sath chora tha…
Ulta mujhe hi samjhati rahi jab maine masoom ke armaanon ko toda tha….

Read this also : Ruthi Girlfriend Ko Manane Ki Best Shayari in Hindi

Main bhi use kahna chahunga ki mohabbat uske liye hamesha mere dil me zinda rahegi…
Mai uski har musibat me ek dhaal ki tarah khada rahunga, jab jab wo dil se mera naam kahegi…

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here