Apne Pyar ke Liye Manane Ke Liye Shayari
Manane Ke Liye Shayari

Papa Ko Apne Pyar ke Liye Manane Ke Liye Shayari – ye shayari ek ladki ki taraf se uske papa ke liye hai, jo unse batana chahti hai ki uska bf usse kitna pyar karta hai. wo un dono ki shadi kara den.. wo ek duje se alag reh na payenge…

पापा को मनाने के लिए शायरी

क़िस्मत ने मिलाया है हमें, हमने महोब्बत पूरी शिद्दत से निभाई है…
जिस्म और फ़रेब की महोब्बत से दूर रहे हम दोनों, उसकी रूह मुझमे और मेरी रूह उसके जिस्म में समायी है…

आप क्यों नहीं समझ रहे कि वो मेरी रूह में समाया है…
क्यों दिखता नहीं है आप को की मै उसकी और वो मेरा साया है…

ख़ुद से ज्यादा उसे फ़िक्र हमेशा रहती है मेरी…
दिल मुहं को आ जाता है उसका गर मिलने में हो जाये थोड़ी सी देरी…

जैसे करता है कोई पिता अपनी बच्ची की वैसी देखभाल वो मेरी करता है…
मेरा रोना तो बहुत दूर की बात है वो मेरी एक छींक से भी डरता है…

क्या खोजेंगे एक लड़के में आप अपनी बेटी के लिए…
मेरा सम्मान, मेरी इज्ज़त, मेरी अहमियत, मेरी खुशियाँ ये सारे तोहफ़े उसने मुझे दिए…

वो मेरे लिए ही जीता है मेरे बिन मर जायेगा…
जो मैं उसकी ना हुवी तो ना जाने वो क्या कर जायेगा…

आप तो मेरे पापा हैं, आप की ख़ुशी तो मेरी ख़ुशी में है.. ये आप ही का तो कहना है…
मैं आप के हाथ जोड़ कर कहती हूँ मुझे उसी के संग सारी उमर रहना है…

जो न हुवा वो मेरा तो मै जिंदा लाश बन जाउंगी…
और मेरी हुवी ऐसी हालत तो मै उसे भी ना बचा पहुंगी…

आप क्यूँ दुश्मन बने हैं दो प्यार करने वालों के लिए…
बस लौटा दीजिये प्यार मेरा, बाकी सब रख लीजिये जो सुख आपने मुझे दिए…

मुझमे उसकी जान बसती है वो मेरे बिना तड़प तड़प कर मर जायेगा…
फिर पापा एक मासूम की मौत का इल्जाम आप ही के सर आयेगा….

कर दीजिये मुझे उसके हवाले मै फिर कभी कुछ ना मांगूंगी…
जो भी होंगी दुःख तकलीफें मैं उसके साथ ही हँसते हँसते बाँटूगी…

अगर अब भी नहीं मंजूर आपको तो मान लीजिये की आज के बाद मेरी जिंदगी में हर तरफ अँधेरा रहेगा…
मै कहूँगी कुछ भी नहीं… मगर अन्दर ही अन्दर मेरा जिस्म मौत का दर्द सहेगा…

Papa Ko Apne Pyar ke Liye Manane Ke Liye Shayari

Kismat ne milaya hai hamne. Hamene mahobbat puri shiddat se nibhai hai…..
Jism aur fareb ki mahobbat se dur rahe ham dono. Uski rooh mujhme aur meri rooh uske jism me samayai……

Aap Kyun samjh nahi rahe ki wo meri rooh me samaya hai…
Kyun dikhta nahi hai aapko ki main uski aur wo mera saya hai….

Khud se zyada use fikar hamesha rahti hai meri…
Dil muh ko aajata hai uska agar milne me ho jaye thodi si deri…

Jaise karta hai koi pita apni bachchi ki waise dekhbhal wo meri karta hai…
Mera rona to bahut dur ki baat hai wo meri ek chhink se bhi darta hai….

Kya khojenge ek ladke me aap apni beti ke liye…
Mera samman, meri ahmiyat, meri khushiyan ye sare tohfe usne mujhe diye….

Wo mere liye hi jeeta hai mere bin mar jayega…
Jo main uski na hui to na jane wo kya kar jayega….

Aap to mere papa hain aapki khushi to meri khushi me hai… Ye aap hi ka to kehna hai…
Main aap ke hath jod kar kahti hun mujhe usi ke sang sari umar rahna hai….

Jo na hua wo mera to main zinda lash ban jaungi…
Aur meri hui aisi halat to main use bhi na bacha paungi…

Aap kyun dushman bane hain do pyar karne walon ke liye…
Bas lauta dijiye pyar mera baki sab rakh lijiye jo sukh aapne mujhe diye….

Mujhme uski jaan basti hai wo mere bina tadap tadap kar mar jayega…
Fir papa ek masoom ki maut ka ilzam aapke hi ke sar aayega….

Kar dijiye mujhe uske hawale main fir kabhi kuchh na mangungi…
Jo bhi hongi dukh taklifen main uske sath hi hanste hanste bataungi….

Read this also : Sad Heart Touching Shayari in Hindi

Agar ab bhi nahi manzoor aapko To maan lijiye ki aaj ke baad meri zindagi me har taraf andhera rahega…
Mai kahungi kuch bhi nahi.. magar andar hi andar mera jism maut ka dard sahega….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here