Pulwama Attack image
Pulwama Attack image

Shayari on pulwama Attack in hindi | heart touching poetry – ye shayari pulwama me shaheed huve ek jawan ka khat hai.. “shayari on pulwama Attack in hindi” iske uske dil ka haal bayan karne ki koshish ki gyi hai.. ham kitna bhi koshish kar len magar army ke jawano ka ahsaan kabhi nhi chuka sakte…

मैं किसी और मां के लिए तुझे ना छोड़ कर जाने का वादा तोड़े जा रहा हूँ…
मुझे माफ़ करना माँ.. मैं तुझे अकेला छोड़े जा रहा हूँ…

अभी तो सुख चार दिन भी ना दे पाया था तुझे…
उससे पहले ही देश के फ़र्ज़ ने पुकार लिया मुझे…

तेरी कोख को कर के सूना मैं कईयों की कोख को बचा रहा हूँ…
मुझे माफ़ करना मां मैं तुझे अकेला छोड़े जा रहा हूँ….

किया था वादा इस बार राखी पर जरूर आने का…
सोच ही रहा था तरीका अपनी रूठी बहन को मनाने का…

मां तेरी भी तो आंखों का ऑपरेशन भी तो इस बार करवाना था…
टूटी छत के साथ दीवारों पर प्लास्टर भी लगवाना था…

जनता हूँ बाबा को चिंता बहन की शादी की खा रही है…
बुढापे की झलक बड़ी तेजी से उनके चेहरे पर आ रही है…

सोचा था इस बार उन्हें जा कर खूब अच्छे से समझाऊंगा…
“मै हूँ ना, आप चिंता ना करो” ये कह कर उन्हें थोड़ा बेफिक्र करूँगा…

बीवी कब से कह रही है मिन्नतें कई पूरी करने के लिए…
उसकी ज़िंदगी मे भी कुछ सुहानी यादें भरने के लिए…

चाहती है कुछ वक्त वो मेरे साथ अकेले बिताना…
जो है उसके मन मे बैठ कर मुझे बड़े प्यार से सुनना…

उसके पेट मे पल रहा हमारा बच्चा भी मुझे देखने को बेचैन हो रहा होगा…
अभी वो अपनी मां के गर्भ में सब बातों से अंजान चैन से सो रहा होगा…

मां कहना बीवी से कि उसका सुहाग उजाड़ कर मैंने भूल बहुत भारी की है…
मगर क्या करता मां.. मैंने फ़ौज में आ कर अपने देश की जिम्मेदारी ली है…

कहना कि वो मेरे क़िस्से मेरे बच्चे को सुनाया करेगी…
जैसे तूने मुझे सिखाया था वो भी देशभक्ती की बातें ही उन्हें सिखाया करेगी….

और हो सके तो लाल अपना देश पर वो भी कुर्बान कर दे…
तेरी तरह वो भी अपने बेटे को सरहद के नाम करदे….

उससे कहना कि सप्तपद से यात्रा में वो मेरी अर्धांगिनी है…
सात जन्मों तक बजे जो वो अमर वो रागिनी है…

इसलिए अधिकारी उसका बिन बताये ले रहा हूँ…
मांग का सिंदूर उसका मातृभूमि को दे रहा हूँ….

Shayari On Pulwama Attack in Hindi

Mai kisi aur maa ke liye tujhe na chhod kar jane ka wada tode ja rha hu…
Mujhe maaf karna maa.. mai tujhe akela chhode ja raha hu….

abhi to sukh ke char din bhi na de paya tha tujhe…
us se pahle hi desh ke farz ne pukar liya mujhe…

teri kokh ko kar ke suna mai kaiyo ki kokh ko bacha rha hu…
mujhe maaf karna maa mai tujhe akela chhode ja rha hu…

Kiya tha wada is baar rakhi par zaroor aane ka…
Soch hi raha tha tarika apni roothi bahan ko manane ka…

Maa teri bhi aankhon ka opretion bhi to is baar karwana tha…
Tooti chhat ke sath ghar ki diwaron pr plater bhi lagwana tha…

Janta hun baba ko chinta behan ki shadi ki kha rahi hai…
Budhape ki jhalak badi teji se unke chehre par aa rahi hai…

Socha tha is baar unhe jaa kar khoob achche se samjhaunga…
‘Main hun na’ aap chinta na karo, ye kah kar unhe thoda befiqr karwaunga….

Biwi kab se kah rahi hai mannaten kai poori karne ke liye…
Uski zindagi me bhi kuchh suhani yaaden bharne ke liye…

Chahti hai kuchh waqt wo mere sath akele bitana…
Jo hai uske man me baith kar mujhe bade pyar se sunana…

Uske pet me pal raha hamara bachcha bhi mujhe dekhne ko bechain ho raha hoga…
Abhi wo apni maa ke garbh me sab baton se anjaan chain se so raha hoga….

Maa kahna meri biwi se ke uska suhag ujad kar maine bhool bahut bhari ki hai…
magar kya karta maa.. maine fouj me aa kar apne desh ki zimevari li hai…

kahna ke wo mere kisse mere bache ko sunaya karegi..
jaise tune mujhe sikhaya tha wo bhi deshbhakti ki baate hi unhe sikhaya karegi…

Aur ho sake to lal apna desh pe wo bhi kurbaan karde…
teri tarah wo bhi apne bete ko sarhad ke naam karde…

Usse khena ki saptpad se yatra me wo meri ardhangni hai…
saat janmo tak baje jo wo amar wo ragini hai….

isliye adhikar uska bin bataye le raha hun…
maag ka sindur uska matrbhumi ko de raha hun….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here